बौद्ध पंचांग

बौद्ध पञ्चाङ्ग (पालि : सासन सकरज; बर्मी : သာသနာ သက္ကရာဇ်, खमेर:ពុទ្ធសករាជ;थाई: พุทธศักราช, आरटीजीएस: phutthasakkarat, [pʰút.tʰá.sàk.kà.ràːt]; सिंहल: බුද්ධ වර්ෂ या සාසන වර්ෂ (बुद्ध वर्ष या सासन वर्ष)) से आशय कम्बोडिया, लाओस, म्यांमार, थाईलैण्ड, श्रीलंका आदि देशों में धार्मिक कार्यों के लिए प्रयुक्त होने वाले कुछ पंचांगों से है। मलेशिया और सिंगापुर में बसे चीनी मूल के लोग भी इस पंचांग का उपयोग करते हैं। यद्यपि इन पञ्चाङ्गों में बहुत कुछ समानता है किन्तु इनमें आपस में कुछ भिन्नताएँ भी हैं, जैसे महीनों के नाम, प्रयुक्त संख्याएँ आदि। ये पंचांग तीसरी शताब्दी में रचित ज्योतिष ग्रन्थ सूर्यसिद्धान्त पर आधारित चान्द्र-सौर पञ्चाङ्ग हैं। दूसरे शब्दों में, ये हिन्दू पंचांग के एक पुराने संस्करण पर आधारित हैं जो नाक्षत्र वर्ष का उपयोग करता है। नाक्षत्र वर्ष में 365.25636 एस आई दिन होते हैं। इस पंचांग का 'शून्य वर्ष' महात्मा बुद्ध के परिनिर्वाण दिवस को माना गया है। ग्रेगोरियन कैलेंडर का वर्ष 2018, बौद्ध पंचांग के वर्ष 2561 के अनुरूप है।

अन्य भाषाओं
العربية: تقويم بوذي
беларуская: Будысцкі каляндар
беларуская (тарашкевіца)‎: Будысцкі каляндар
日本語: 仏滅紀元
한국어: 불멸기원
မြန်မာဘာသာ: သာသနာ သက္ကရာဇ်
srpskohrvatski / српскохрватски: Budistički kalendar
Simple English: Buddhist calendar
Tiếng Việt: Phật lịch
吴语: 佛历
中文: 佛曆
文言: 佛曆
Bân-lâm-gú: Hu̍t-bia̍t kì-goân
粵語: 佛曆