फ्रेड्रिक रेटजेल

फ्रेड्रिक रेटजेल

फ्रेड्रिक रेटजेल (१८४४ - १९०४ ई.) एक प्रमुख भूगोलवेत्ता थे। उनका जन्म कार्ल शू नगर में प्रशिया में हुवा। उन्होंने १८६९ में सर्वप्रथम डार्विन के विकासवादी ग्रन्थ की समालोचना प्रस्तुत की। तब से जीवन-प्रयन्त उन्होंने जीव-विज्ञान, भू-विज्ञान, भौतिक, मानव एवं राजनीतिक भूगोल पर लेख एवं ग्रन्थ लिखें। १८७४-७५ में उन्होंने पूर्वी युरोप, इटली, उत्तरी अमरीका और मध्य अमरीका की यात्रा की।

संकल्पना

रेटजेल पृथ्वी को जैविक इकाई के रूप में मानते थे। जिसे लेबेन्स्रॉम कहतें हैं।

अन्य भाषाओं