द लॉर्ड ऑफ़ द रिंग्स

चित्र:Tolkien ring.jpg
वो शैतानी अंगूठी : एक कलाकार की छवि

द लॉर्ड ऑफ़ द रिंग्स (en:The Lord of the Rings, मतलब अंगूठियों का मालिक) अंग्रेज़ी में रचित एक उपन्यास है जिसके (ब्रिटिश) लेखक जे. आर. आर. टोल्किन हैं। ये उपन्यास असल में तीन किताबों का सिलसिला है, जो ख़ुद की टोल्किन के एक पिछले कार्य द हॉबिट की एक कड़ी की तरह है। इन उपन्यासों का 2001, 2002 और 2003 में तीन हॉलिवुड फ़िल्मों में फ़िल्मांकन हुआ था, जिसके निदेशक पीटर जैक्सन हैं। तीनों फ़िल्में हॉलिवुड में धूम-धाम से हिट रहीं और इन्होंने कई ऑस्कर इनाम भी जीते। इस उपन्यास की कहानी काल्पनिक है।

मध्य धरती

मध्य धरती (en:Middle Earth) इस उपन्यास में ज़िक्र एक काल्पनिक महाद्वीप है जो चारों तरफ़ से समन्दरों से घिरा हुआ है। इसके पश्चिम में एक और महाद्वीप है, जिसका नाम वालिनोर (en:valinor) है। वालिनोर देवताओं की भूमि है जहाँ इंसान नहीं जा सकते।

कहानी शुरू होती है मध्य धरती में एक शैतान काले राक्षस से, जिसका नाम था सौरॉन (en:Sauron) और जो काले जादू में माहिर था। प्रथम युग के अन्त में सौरॉन अपने शैतानी मालिक मोर्गोथ मेल्कॉर की देवताओं द्वारा हार से बच निकलता है। दूसरे युग में सौरॉन दुनिया का बादशाह बनने के सपने संजोने लगता है। इसके लिये वो तोहफ़ों के मालिक अन्नतर () का सुन्दर भेस बनाकर गन्धर्वों (elves) के पास गया और उनके लोहारों के मुखिया केलेब्रिम्बोर (en:Celebrimbor) और दूसरे लोहारों को धोखे से फुसलाकर उनसे कई जादुई अंगूठियाँ बनवाईं। लेकिन रहस्यमयी और गुप्त तरीके से उसने स्वर्ण की एक और अंगूठी स्वयं बनायी : वो एक अंगूठी (The One Ring)। इसमें उसने दुनिया की सारी शैतानियत और जादुई ताकत भर दी। वो एक अंगूठी बाकी सभी अंगूठियों की स्वामिनी थी और उसको पहनने वाला बकी सभी अंगूठी पहनने वालों को अपना ग़ुलाम बना सकता था। ये योजना नाकामयाब होती है जब गन्धर्वों को इस धोखे का पता चलता है और वो अपने लिये बनायी तीन अंगूठियों को उतार देते हैं। सौरॉन गन्धर्वों ये युद्ध करने बाकी सारी अंगूठियाँ छीन लेता है। सात अंगूठियाँ सौरॉन ने बौनों के सरदारों को दीं और नौ इंसानों के सरदारों को। गन्धर्वों ने अपनी तीन अंगूठियाँ बचा कर छुपा लीं। बौने अपने आन्तरिक जादू की वजह से अंगूठियों से ख़ास प्रभावित नहीं हुए, पर इंसान प्रभावित हुए। अंगूठी पहनने वाले नौ इंसान कुछ ही सालों में शैतानी प्रेत (en:Nazgul) बन गये और अन्त तक सौरॉन के वफ़ादार नौकर बने रहे।

नूमेनोर (en:Numenor) द्वीप का राजा (इंसान) आर-फ़राजौन (en:Ar-Pharazôn) मध्य धरती पर कब्ज़ा करने आता है और सौरोन को बन्दी बनाकर नूमेनोर ले जाता है। उल्टे वहाँ सौरॉन राजा को फुसलाकर उसे दुष्टता के रास्ते ले जाता है और नूमेनोर द्वीप और लगभग सभी नूमेनोरवासियों का सर्वनाश करा देता है। कुछेक अच्छे नूमेनोरी इंसान मध्य भूमि तक बचकर पहुँच जाते हैं और वहाँ एक नयी सभ्यता बसाते हैं : गॉन्दोर (en:Gondor) का राज्य। इधर अमर सौरॉन एक दूसरा रूप लेकर वापिस मध्य भूमि पहुँचता है, बाकी नूमेनोरियों को ख़त्म करने। इस समय गन्धर्व और इंसान एक मैत्री संगठन बनाते हैं और मिलकर सौरॉन और उसकी दैत्यों (orcs) की सेना को हरा देते हैं। नूमेनोरियों का युवराज इसील्दूर एलेन्दिल (Isildur Elendil) अपने मृत पिता की टूटी हुई तल्वार नार्सिल से सौरॉन की उंगली काटकर उससे वो एक अंगूठी छीन लेता है और सौरॉन का जिस्मानी वजूद ख़त्म कर देता है। सौरॉन की प्रेतात्मा कहीं और भाग जाती है। इस तरह तीसरे युग की शुरुआत होती है।

अब नूमेनोरोयों के नये राजा इसील्दूर का कर्त्तव्य बनता था कि वो उस एक अंगूठी को विनाश के पर्वत (en:Mount Doom or Orodruin), जो एक ज्वालामुखी था, में जलते हुए लावे में डाल दे, क्योंकि इस दुष्ट अंगूठी और इसके स्वामी के सर्वनाश का कोई और तरीका नहीं था। लेकिन उस एक अंगूठी की अपनी एक जादुई चाहत थी, किसी तरह अपने स्वामी सौरॉन के पास वापिस जाने की। उस जादुई अंगूठी के प्रभाव से इसील्दूर ने उसे नष्ट नहीं किया बल्कि अपने पास रख लिया। बाद में कुछ दैत्यों ने उसे मार डाला और उसका शव नदी में गिरा दिया। इस तरह वो शैतानी अंगूठी पानी में गुम हो गयी, एक पूरे युग के लिये। ये सारी कहानी ज़्यादातर द सिल्मैरिल्यॉन उपन्यास में ज़िक्र है।

द हॉबिट उपन्यास में एक इंसान-जैसी नस्ल का वर्णन है, जो हॉबिट (en:Hobbit) कहे जाते थे। हॉबिट शान्तिप्रिय नन्हें इंसान होते थे, लगभग बौनों के कद जितने। गोल्लुम (en:Gollum, जन्म : स्मीगोल Smeagol) नाम के एक बहिष्कृत हॉबिट के हाथों एक बार वो एक अंगूठी लग जाती है। गोल्लुम को वो शैतानी अंगूठी एक पागल, भद्दे और दुष्ट जानवर-नुमा जीव में तबदील कर देती है। एक हॉबिट बिल्बो बैगिन्स (en:Bilbo Baggins) को अपनी रोमांचक यात्रा के दौरान किसी तरह (धोखा करके) गोल्लुम से वो शैतानी अंगूठी मिल जाती है। बिल्बो के बुढ़ापे से द लॉर्ड ऑफ़ द रिंग्स उपन्यास की कहानी शुरू होती है।

अन्य भाषाओं
Alemannisch: Der Herr der Ringe
العربية: سيد الخواتم
беларуская: Уладар Пярсцёнкаў
беларуская (тарашкевіца)‎: Уладар Пярсьцёнкаў
čeština: Pán prstenů
客家語/Hak-kâ-ngî: Mô-kài
עברית: שר הטבעות
Bahasa Indonesia: The Lord of the Rings
日本語: 指輪物語
한국어: 반지의 제왕
Ripoarisch: Dr Herr dr Ringe
Кыргызча: Теңир шакеги
Lëtzebuergesch: The Lord of the Rings
Lingua Franca Nova: La Senior de la Anelos
lietuvių: Žiedų valdovas
Bahasa Melayu: The Lord of the Rings
norsk nynorsk: Ringdrotten
Runa Simi: Siwikunap Apun
srpskohrvatski / српскохрватски: The Lord of the Rings
Simple English: The Lord of the Rings
slovenščina: Gospodar prstanov
Kiswahili: Bwana wa Mapete
українська: Володар перснів
吴语: 指环王
中文: 魔戒
Bân-lâm-gú: Chhiú-chí Ông
粵語: 魔戒