गोएकतुर्क

अपने शुरुआती काल में गोएकतुर्क ख़ागानत

गोएकतुर्क (पुरानी तुर्की: Old Turkic letter UK.svgOld Turkic letter R2.svgOld Turkic letter U.svgOld Turkic letter T2.svg Old Turkic letter K.svgOld Turkic letter U.svgOld Turkic letter UK.svg, कोक तुरुक; अंग्रेजी: Göktürk) मध्य एशिया और उत्तरपूर्वी एशिया में एक मध्यकालीन ख़ानाबदोश क़बीलों का परिसंघ था जिन्होंने ५५२ ईसवी से ७४४ ईसवी तक अपना गोएकतुर्क ख़ागानत (Göktürk Khaganate) नाम का साम्राज्य चलाया। इन्होनें यहाँ पर अपने से पहले सत्ताधारी जू-जान ख़ागानत को हटाकर रेशम मार्ग पर चल रहे व्यापार को अपने नियंत्रण में कर लिया। 'गोएक' (gök) का अर्थ तुर्की भाषा में 'आकाश' होता है और 'गोएकतुर्क' का मतलब 'आसमानी तुर्क' है। यह इतिहास का पहला साम्राज्य था जिसने अपने आप को 'तुर्क' बुलाया। इस से पहले 'तुर्क' या 'तुरुक' निपुण लोहार माने जाते थे लेकिन राजा-महाराजा नहीं।[1]

गोएकतुर्क साम्राज्य की स्थापना बूमीन ख़ागान (Bumin Qaghan) ने की थी और इसके अधीन मध्य एशिया के स्तेपी क्षेत्र का बहुत से क़बीले संगठित हो गए। लेकिन चौथे ख़ागान (जिसका नाम तसपार ख़ागान था) के बाद यह साम्राज्य दो हिस्सों - पूर्वी ख़ागानत और पश्चिमी ख़ागानत - में बंट गया। और आगे चलकर कुछ क़बीलों ने इसके गोएकतुर्कों के खिलाफ़ विद्रोह करा और उनका राज ख़त्म होने के साथ-साथ ७४४ ईसवी में उईग़ुर ख़ागानत सब से शक्तिशाली तुर्क साम्राज्य के रूप में उभरी।[2]

अन्य भाषाओं
العربية: غوكتورك
български: Гьоктюрки
čeština: Turkuti
Чӑвашла: Тӳркӳтсем
Deutsch: Kök-Türken
English: Göktürks
español: Köktürk
euskara: Göktürk
français: Göktürk
עברית: גקטורקים
hrvatski: Gok-Turci
Bahasa Indonesia: Göktürk
italiano: Göktürk
日本語: 突厥
한국어: 돌궐
norsk nynorsk: Køk-tyrkarar
polski: Turkuci
پنجابی: گوک ترک
português: Goturcos
srpskohrvatski / српскохрватски: Gok Turci
Türkçe: Göktürkler
中文: 古突厥
粵語: 戈突厥