गुप्त ऊष्मा

जब कोई पदार्थ एक भौतिक अवस्था (जैसे ठोस) से दूसरी भौतिक अवस्था (जैसे द्रव) में परिवर्तित होता है तो एक नियत ताप पर उसे कुछ उष्मा प्रदान करनी पड़ती है या वह एक नियत ताप पर उष्मा प्रदान करता है। किसी पदार्थ की गुप्त उष्मा (latent heat), उष्मा की वह मात्रा है जो उसके इकाई मात्रा द्वारा अवस्था परिवर्तन (change of state) के समय अवषोषित की जाती है या मुक्त की जाती है। इसके अलावा पदार्थ जब अपनी कला (फेज) बदलते हैं तब भी गुप्त उष्मा के बराबर उष्मा का अदान/प्रदान करना पड़ता है।

इस शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग सन् १७५० के आसपास जोसेफ ब्लैक ने किया था। आजकल इसके स्थान पर "इन्थाल्पी ऑफ ट्रान्सफार्मेशन" का प्रयोग किया जाता है।

प्रकार

चूंकि पदार्थ की मुख्य रूप से तीन भौतिक अवस्थाएँ हैं - ठोस, द्रव एवं गैस। अत: मुख्यत: दो गुप्त उष्माएँ होतीं हैं -

  • द्रवण की गुप्त उष्मा (heat of fusion) : ठोस <--> द्रव
  • वाष्पन की गुप्त उष्मा (latent heat of vaporization) : द्रव <--> गैस
अन्य भाषाओं
العربية: حرارة كامنة
català: Calor latent
کوردی: ماتەگەرمی
čeština: Skupenské teplo
English: Latent heat
Esperanto: Latenta varmo
español: Calor latente
Gaeilge: Teas folaigh
עברית: חום כמוס
Kreyòl ayisyen: Chalè latan
Bahasa Indonesia: Kalor laten
italiano: Calore latente
日本語: 潜熱
Basa Jawa: Kalor laten
한국어: 잠열
മലയാളം: ലീനതാപം
Bahasa Melayu: Haba pendam
Nederlands: Latente warmte
norsk nynorsk: Latent varme
português: Calor latente
srpskohrvatski / српскохрватски: Latentna toplota
Simple English: Latent heat
slovenčina: Skupenské teplo
српски / srpski: Латентна топлота
svenska: Latent värme
українська: Прихована теплота
中文: 潛熱
Bân-lâm-gú: Chiâm-jia̍t
粵語: 潛熱