आनन्‍द केंटिश कुमारस्‍वामी

आनन्द कुमारस्वामी

आनन्‍द कुमारस्‍वामी (तमिल:ஆனந்த குமாரசுவாமி ; १८७७-१९४७) श्री लंका के सुविख्यात कलामर्मज्ञ एवं भारत-चिन्तक तमिल थे।

जीवनवृत्त

इनका जन्म कोलुपित्या, कोलंबो (श्रीलंका) में 22 अगस्त 1877 को हुआ था। उनके पिता सर मुतु कुमारस्वामी प्रथन हिंदू थे जिन्होंने 1863 ई. में इंग्लैंड से बैरिस्टरी पास की थी। वे पालि के विद्वान थे। उन्होने मिस एलिजाबेथ क्ले नामक अंग्रेज महिला से विवाह किया था। इस विवाह के चार ही वर्ष बाद वे दिवंगत हो गए। आनन्द कुमारस्वामी इन्हीं दोनों की संतान थे। पिता की मृत्यु के समय आनंद केवल दो साल के थे। उनका पालन-पोषण उनकी अंग्रेज माँ ने किया। 12 वर्ष की अवस्था में वे वाइक्लिफ़ कालेज में दाखिल हुए। 1900 ई. में लंदन विश्वविद्यालय से भूविज्ञान तथा वनस्पतिशास्त्र लेकर उन्होंने प्रथम श्रेणी में बी. एस-सी. (आनर्स) पास किया और यूनिवर्सिटी कालेज, लंदन में कुछ काल फ़ेली रह लेने के बाद वे श्रीलंका के मिनरालाजिकल सर्वे के निदेशक नियुक्त हुए। खोज मिट्टी के भीतर से आरम्भ हुई और इसी क्रम में उन्होने भारत का भ्रमण किया। यहाँ पश्चिम में शिक्षित इस महान अन्तश्चेतना को सबसे अधिक भारतीय शिल्पी की साधना ने आकृष्ट किया। भारत घूमते-घूमते वे स्वदेशी आन्दोलन से परिचित हुए।

तीन वर्ष श्रीलंका में रहकर उन्होंने 'सीलोन सोशल रिफ़ार्मेशन सोसाइटी' का संगठन किया और यूनिवर्सिटी आंदोलन का नेतृत्व किया। 1906 में लंदन से डी. एस-सी. की उपाधि प्राप्त करने के उपरांत वे ललित कलाओं की ओर झुके और भारत तथा दक्षिणपूर्वी एशिया का भ्रमणकर प्राचीन मूर्तियों और चित्रों का अध्ययन किया। विज्ञान के विचक्षण विद्यार्थी होकर एवं लंका के मिनरालाजिकल सर्वे का सर्वोच्च पद छोड़ उन्होंने अपनी विशिष्ट अभिरुचि ललितकला के प्रति जागृत की और आज उस दिशा में उनका प्रयत्न इतना गहरा और सिद्ध है कि किसी को गुमान तक नहीं होता कि उनका संबंध विज्ञान से भी हो सकता था।

संसार में बहुत कम विद्वान ऐसे हुए हैं जिनकी प्रतिभा इतनी बहुमुखी रही हो जितनी आनंद कुमारस्वामी की थी। उनकी खोज दर्शन, पराविद्या, धर्म, मूर्ति और चित्रकला, भारतीय साहित्य, इस्लामी कला, संगीत, विज्ञान आदि के विविध क्षेत्रों में लब्धप्रतिष्ठ हुई। प्रत्येक क्षेत्र में जिस मौलिकता का उन्होंने परिचय दिया वह अन्यत्र दुर्लभ है। उपनिषदों के भावतत्व का उन्होंने निरूपण कर कला के संदर्भ में उसकी जो अभिव्यंजना की वह सर्वथा नया दृष्टिकोण था। 1910 में कलकत्ते की इंडियन सोसाइटी ऑव ओरिएंटल आर्ट के तत्वावधान में उन्होंने मुगल और राजपूत चित्रकला पर जो भाषण दिया, वह उनके असाधरण ज्ञान का परिचायक था। 1911 में इंग्लैंड जाकर उन्होंने अन्य विद्वानों के साथ लंदन की इंडिया सोसाइटी की नींव डाली जो आज 'रायल इंडिया पाकिस्तान ऐंड सीलोन सोसाइटी' के नाम से विख्यात है। 1917 में वे बोस्टन के ललितकला संग्रहालय के भारतीय विभाग के संग्रहाध्यक्ष नियुक्त हुए और मृत्यु तक वहीं रहे। 1920 में उन्होंने विश्वभ्रमण किया और अगले साल श्रीलंका में भारतीय तथा प्राचीन सिंहली कला पर व्याख्यान दिए। 1924 में न्यूयार्क में इंडियन कल्चर सेंटर की नींव डाली जिसके वे प्रथम प्रधान भी हुए। अमरीका में उसके बाद उनके व्याख्यानों की परंपरा बन गई और 1938 में वाशिंगटन की संस्था नैशनल कमिटी फ़ार इंडियाज फ़्रीडम के वे अध्यक्ष बने।

अन्य भाषाओं